मां IAS, पिता जज, बेटी लंदन से लाखों की नौकरी छोड़ आई विधायक बनने

  • विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है. बीजेपी ने हरियाणा की ज्यादातर सीटों के लिए लिस्ट जारी कर दी है. इन लिस्ट में एक नाम है नौक्षम चौधरी का, जिन्हें भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने पुन्हाना विधानसभा सीट से टिकट दिया है. मेवात में नौक्षम को लेकर चर्चाए हो रही हैं. आइए जानें, लंदन से लाखों की नौकरी छोड़कर विधानसभा चुनाव लड़ने वाली नौक्षम के बारे में, क्या हैं उनकी खासियतें. किसलिए दिया गया है उन्हें टिकट.

    Image Credit: Facebook
  • 2/7
    ये है एकेडमिक प्रोफाइलनौक्षम ने तीन विषयों में एमए किया है. उन्होंने पहले दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस से दो विषय में परास्नातक करके लंदन से आगे की पढ़ाई की. लंदन में तीन साल रहने के दौरान वहां उन्हें काम करने और करियर बनाने के कई ऑफर मिले.

    Image Credit: Facebook
  • 3/7
    मिरांडा हाउस कॉलेज दिल्ली से शुरू की राजनीति

    पुन्हाना विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रही नौक्षम के लिए राजनीति की दुनिया एकदम अलग नहीं है. उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से पढ़ाई की है. इस दौरान वो छात्र राजनीति में भी रही हैं. बीते दिनों जब वो प्रदेश की राजनीति में सक्रिय हुईं तो उनकी रैली में बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया, जिसे आश्चर्यजनक माना गया.
    Image Credit: Facebook
  • 4/7
    इसलिए छोड़ दी लाखों की नौकरी

    मिरांडा हाउस से पढ़ाई खत्म करके वो तीन साल के लिए लंदन चली गईं. यहां जाकर वो पौंड में कमाने लगी, ये भारत के लिहाज से लाखों की नौकरी थी. लंदन में तीन साल तक काम करने के दौरान उन्हें अपने वतन की फिर से याद आई, उन्हें लगा कि उनके घर, परिवार, राज्य को उन जैसे लोगों की जरूरत है. बस ये ही सोचकर वो वापस इंडिया आकर काम करने लगीं.

    Image Credit: Facebook
  • 5/7
    मां IAS और पिता रहे हैं जज

    नौक्षम के पारिवारिक बैकग्राउंड की बात करें तो यहां भी उन्होंने बहुत सारे संघर्ष नहीं देखे. उनकी मां IAS और पिता रिटायर्ड जज हैं. शायद ये ही वजह है कि महज 26 साल की उम्र में नौक्षम ने इतना बड़ा फैसला ले लिया और अपने ही क्षेत्र से आकर चुनाव भी लड़ रही हैं. बताते हैं कि उन्होंने करीब एक माह पहले ही अगस्त के अंतिम सप्ताह में बीजेपी की सदस्यता ली थी. उन्होंने इससे पहले जनता से रायशुमारी भी की थी.

    Image Credit: Facebook
  • 6/7
    10 लैंग्वेजेस का है ज्ञान

    बताया जा रहा है कि नौक्षम 10 भाषाएं जानती हैं. उन्हें लंदन से एक करोड़ रुपये सालाना वेतन का ऑफर मिला था. जिसे ठुकराकर वो प्रदेश की सबसे पिछड़ी मानी जाने वाली विधानसभा पुन्हाना से चुनाव लड़ रही हैं. यहां उनके सामने बड़े-बड़े दिग्गज होंगे, जिनके सामने नौक्षम को अपने आपको साबित करना होगा.

    Image Credit: Facebook
  • 7/7
    मिला बड़ा मौका
    बताया जा रहा है कि पार्टी से मौजूदा विधायक रहीश खान फिर से यहां से चुनाव लड़ने के लिए दावेदारी कर रहे थे. वो इस क्षेत्र में अपना अलग रुतबा रखते हैं. वो इसी रुतबे के चलते निर्दलीय ही पिछला चुनाव लड़ गए थे. फिर बाद में उन्होंने बीजेपी ज्वाइन कर ली थी. प्रदेश सरकार ने उन्हें हरियाणा वक्फ बोर्ड का चेयरमैन बनाने के साथ राज्यमंत्री का दर्जा दे रखा है, लेकिन यहां से नौक्षम को टिकट देकर सबको चौंका दिया गया है.

    Image Credit: Facebook
  • संदर्भ पढ़ें

    0 Comments:

    Adnow

    loading...