AAP के वादों को पछाड़ने की कोशिश में भाजपा-कांग्रेस



आम आदमी पार्टी (आप) की अगुवाई वाली दिल्ली सरकार द्वारा बिजली और पानी की दरों में दी जाने वाली सब्सिडी - बिजली की पहली 200 यूनिट और 20,000 लीटर मुफ्त पानी ने भाजपा और कांग्रेस को विशेषकर इन दो क्षेत्रों में विधानसभा चुनावों में वादे करने के लिए मजबूर कर दिया है।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि उनकी पार्टी सत्ता में आई तो 25,000 लीटर तक मुफ्त पानी देगी और यह सुनिश्चित करेगी कि यह अच्छी गुणवत्ता का हो, जबकि कांग्रेस ने हाल ही में घोषणा की थी कि अगर पार्टी चुनाव जीतती है तो वह 600 यूनिट तक मुफ्त बिजली प्रदान करेगी। राजधानी दिल्ली में बिजली बनाने के लिए एक पावर प्लांट भी लगाएगी। कांग्रेस ने यह भी वादा है कि छोटे व्यवसायों को भी 200 यूनिट तक सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

वहीं, भाजपा दिल्ली में केंद्र द्वारा जारी संकल्प पत्र या विजन डॉक्यूमेंट में अपनी उपलब्धियों के हिस्से के रूप में किए गए काम का हवाला देगी। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि 'आप' की ओर से बिजली-पानी जैसे इन दोनों क्षेत्रों में प्रदान की जाने वाली सब्सिडी का तोड़ ढूंढना होगा। सब्सिडी का लाभ केवल गरीब लोगों तक सीमित नहीं है। लोगों को यह बताना महत्वपूर्ण है कि इस सरकार ने पिछले तीन महीनों में ही काम किया है। 57 महीनों तक, इसने कुछ नहीं किया।

संकल्प पत्र या विजन डॉक्यूमेंट के बारे में बोलते हुए मनोज तिवारी ने कहा कि हम लोगों को पानी और बिजली पर मिल रही सब्सिडी को नहीं रोकेंगे। हम न केवल अधिक सब्सिडी देंगे बल्कि यह भी सुनिश्चित करेंगे कि लोगों को अपने घरों में पीने का साफ पानी मिले। वर्तमान में, लोगों को जहरीला पानी मिल रहा है। हम 25,000 लीटर मुफ्त पानी देंगे। हम यह भी सुनिश्चित करेंगे कि दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) को कोई नुकसान न हो।

हालांकि, बीजेपी अपने विजन डॉक्यूमेंट को तैयार करने में जुटी है, लेकिन पार्टी नेताओं का कहना है कि बिजली,पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य और बुनियादी ढांचागत विकास इस चुनाव में अहम मुद्दे होने जा रहे हैं।

भाजपा, केंद्र सरकार की आयुष्मान भारत योजना को लागू करके बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहरा रही है, जिसे दिल्ली में सत्तारूढ़ दल 'आप' ने सरकारी अस्पतालों और मोहल्ला क्लीनिकों में मुफ्त इलाज की चल रही योजना का हवाला देते हुए लागू करने से इनकार कर दिया है।

कांग्रेस, जिसने पानी और बिजली जैसी सेवाओं में सुधार किए थे, आज वही दिल्ली में अपनी खोई हुई जमीन को वापस पाने की उम्मीद में 600 यूनिट तक सब्सिडी देने का वादा कर रही है।

दिल्ली कांग्रेस प्रवक्ता मुकेश शर्मा ने कहा कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है, तो हम 600 यूनिट तक के उपभोक्ताओं को राहत देंगे। हम सब्सिडी सीधे उपभोक्ताओं के बैंक खातों में ट्रांसफर करेंगे। जबकि केजरीवाल सरकार सार्वजनिक धन का इस्तेमाल बिजली डिस्कॉम को फायदा पहुंचाने के लिए कर रही है। मुकेश शर्मा ने कहा कि यह आगामी चुनावों में हमारे घोषणापत्र का एक प्रमुख हिस्सा होगा।

दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक तनवीर ऐजाज ने कहा कि 'आप' सरकार ने अपने चुनावी वादों को अंतिम पांच साल में पूरा करके दिल्ली में विपक्षी दलों को चार क्षेत्रों - पानी, बिजली, शिक्षा और स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित करने के लिए मजबूर कर दिया है। जबकि मतदाता जब घोषणापत्र के आधार पर किसी पार्टी को वोट देते हैं तो यह उनके लिए विश्वास का विषय है कि राजनीतिक दल वादा पूरा करेंगे। उदाहरण के लिए, लोकसभा चुनाव के दौरान लोगों ने 72,000 रुपये प्रति वर्ष की न्यूनतम आय के कांग्रेस के वादे को गंभीरता से नहीं लिया, जो एक अच्छी योजना थी।

2013 और 2015 के विधानसभा चुनावों के दौरान, कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों ने 'आप' के वादों का मुकाबला करने के लिए बिजली और पानी पर सब्सिडी का वादा किया था।

2013 के अपने घोषणापत्र में, भाजपा ने सत्ता में आने पर बिजली दरों में 30% कटौती करने का वादा किया था। 2015 में भी बिजली और पानी की दरों में कमी का वादा किया।

21 साल के अंतराल के बाद दिल्ली में सत्ता में वापसी की उम्मीद करते हुए, दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल सरकार जो वादा कर रही है हम उसका पांच गुना अधिक लाभ देंगे। वास्तव में, हम जो भी वादा करते हैं, वह 60 महीने (पांच साल) के लिए होगा, न कि सिर्फ दो-तीन महीने के लिए।

News Source: www.livehindustan.com

0 Comments: